गुजरात के 91 बांधों में क्षमता का 10 फीसदी भी नहीं बचा है जल संग्रह

Patrika | 1 week ago | 22-06-2022 | 10:47 am

गुजरात के 91 बांधों में क्षमता का 10 फीसदी भी नहीं बचा है जल संग्रह

अहमदाबाद. Gujarat गुजरात के विविध हिस्सों में पिछले दिनों से लगातार बारिश हो रही है। दूसरी ओर राज्य में बुधवार तक water reservoir जलसंग्रह की स्थिति को देखा जाए तो प्रमुख 207 (नर्मदा समेत) बांधों में से 91 में क्षमता के मुकाबले 10 फीसदी भी पानी नहीं बचा है। 12 जलाशय बिल्कुल सूखी हालत में हैं। महज आठ में ही 50 फीसदी से अधिक जल संग्रह है। राज्य के इन सभी बांधों में जल संग्रह क्षमता 25265.84 मिलियन क्यूबिक मीटर (एमसीएम) है। इसके मुकाबले बुधवार तक 9545.56 एमसीएम पानी बचा है, जो 37.78 फीसदी है। रीजन के आधार पर देखा जाए तो उत्तर गुजरात के बांधों में सबसे कम संग्रह रह गया है। इस रीजन के प्रमुख 15 जलाशयों में 1929.29 एमसीएम की क्षमता के मुकाबले 224.21 एमसीएम पानी रह गया है। यह महज 11.62 फीसदी है। दक्षिण गुजरात के बांधों में सबसे अधिक 42.29 फीसदी संग्रह बचा हुआ है। इस रीजन के 13 जलाशयों में 8624.78 एमसीएम की क्षमता है, इसके मुकाबले फिलहाल 3647.34 एमसीएम पानी रहा है। गुजरात के अन्य रीजनों की यह है स्थिति सौराष्ट्र रीजन में सबसे अधिक 141 बांधों में जल संग्रह की क्षमता 2588.49 एमसीएम है। इनमें फिलहाल 590 एमसीएम पानी (22.79 फीसदी )शेष रह गया है। मध्य गुजरात के 17 बांधों में 2331.01 एमसीएम की क्षमता है और फिलहाल इन बांधों में 792 एमसीएम (33.99 फीसदी) पानी रह गया है। कच्छ रीजन के 20 बांधों में 332.27 एमसीएम पानी की संग्रह क्षमता के मुकाबले फिलहाल 65.98 एमसीएम ( 19.85 फीसदी) पानी रह गया है। सरदार सरोवर में है 45 फीसदी के करीब संग्रहराज्य के सबसे बड़े सरदार सरोवर (नर्मदा बांध) की संग्रह क्षमता 9460 एमसीएम के मुकाबले फिलहाल 422.69 एमसीएम पानी शेष है जो 44.68 फीसदी है। 138.68 मीटर ऊंचे बांध में फिलहाल 115.16 मीटर जलस्तर है। इन बांधों में नहीं है बिल्कुल पानीगुजरात के 12 बांधों में बिल्कुल (शून्य फीसदी) पानी है। इनमें राजकोट जिले का वेरी, देवभूमि द्वारका का सैनी व सिंधानी, कच्छ जिले का कालिया, जूनागढ़ का प्रेमपरा और ओजतवैर (वंथली), पोरबंदर का अमीपुर तथा सोरथी, अमरेली का सूरजवाड़ी, सुरेन्द्रनगर का निम्बबनी, बोटाद का भीमदाद तथा जामनगर जिले का रूपावती बांध है। इन आठ बांधों में ही 50 फीसदी से अधिक संग्रहराज्य के जिन आठ बांधों में 50 फीसदी से अधिक संग्रह है उनमें सबसे अधिक 82.27 फीसदी महिसागर के वाणकबोरी में है। कच्छ जिले के तापर बांध में 76.86, राजकोट जिले के आजी-2 में 73.27, कच्छ के कालाघोड़ा में 63.38, सुरेन्द्रनगर के धोलीधजा बांध में 62.57, भरुच जिले के धोली में 59.42, गिरसोमनाथ जिले के रावल में 54.36 और अमरेली के खोडियार बांध में क्षमता के मुकाबले 50.95 फीसदी जल संग्रह रहा है।

Google Follow Image