Gujarat: पहली बार गुजरात में ड्रोन तकनीक के जरिए खेतों में नैनो यूरिया का छिडक़ाव

Patrika | 1 week ago | 05-08-2022 | 10:37 am

Gujarat: पहली बार गुजरात में ड्रोन तकनीक के जरिए खेतों में नैनो यूरिया का छिडक़ाव

Gujarat govt launches programme for Nano urea spray thrugh drones पहली बार गुजरात के गांधीनगर जिले के इसनपुर मोटा गांव से ड्रोन तकनीक के जरिए खेतों में नैनो यूरिया के छिडक़ाव की शुरुआत की गई। मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने सौ फीसरी राज्य प्रायोजित योजना का शुक्रवार को आरंभ करवाया।नैनो यूरिया भरने के बाद ड्रोन को खुद सीएम ने ऑपरेट कर राज्य सरकार की इस ऐतिहासिक पहल की शुरुआत की। मुख्यमंत्री ने ड्रोन को ‘कृषि विमान-किसान का विमान’ की संज्ञा दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों की आय दोगुनी करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। पटेल के मुताबिक खेती की लागत को कम करने और उत्पादकता को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं, ऐसे में गुजरात में आधुनिक तकनीक के उपयोग से इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया गया है। नैनो यूरिया के उपयोग से विदेशी मुद्रा की बचत उन्होंने कहा कि नैनो यूरिया के उपयोग से रासायनिक खाद के आयात पर खर्च होने वाली विदेशी मुद्रा की बचत होगी और सब्सिडी का खर्च भी घटेगा। ड्रोन के मार्फत नैनो यूरिया के छिडक़ाव से पानी की भी बचत होगी। इफ्को के अध्यक्ष दिलीप संघाणी ने कहा कि इफ्को ने विश्व में सर्वप्रथम नैनो यूरिया की शोध की है। प्रधानमंत्री ने धरती और वायु की सेहत के साथ ही सभी नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए यूरिया के इस्तेमाल को कम करने का अनुरोध किया था। इफको के संशोधकों ने नवीन प्रयोग शुरू कर नैनो यूरिया को विकसित किया है। राज्य में 35 ड्रोन लगाए गए खेती निदेशक एसजे सोलंकी ने कहा कि कृषि क्षेत्र में अद्यतन ड्रोन तकनीक के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने बजट में 35 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। इससे 1.40 लाख एकड़ भूमि में एटसोर्स और आई-खेड़ूत पोर्टल पद्धति के माध्यम से कार्य किया जाएगा। गांवों के क्लस्टर बनाकर संबंधित जिला खेतीबाड़ी अधिकारी किसानों के नाम की सूची तैयार करेंगे। इफको उनके खेतों में ड्रोन के जरिए नैनो यूरिया का छिडक़ाव कर इवेल्यूशन रिपोर्ट तैयार करेगी। इस कार्य को सुचारु रूप से करने के लिए इफ्को की ओर से राज्य में 35 ड्रोन लाए गए हैं। इसके लिए फील्ड स्टाफ को प्रशिक्षित भी किया गया है।

Google Follow Image